यदि आप सफल होंगे तो पूरी दुनिया के लिए प्रेरक भी होंगे | बस निर्भर करता है कि किस प्रकार आप अपने लक्ष्य को, अपने सपने को चाहते हैं | आपको उसे सांस लेने के लिए ज़रूरी हवा की तरह चाहना होगे

ऐसे देना है आपको अपने बच्चे का साथ   

विश्वास करें

अपने बच्चे की काबिलियत पर विश्वास रखें और उसका विश्वास अर्जित करें | हर बच्चे में सफल होने की काबिलियत है, बस उसका तरीका अलग हो सकता है | आपके बच्चे के साथ आपका विश्वास बंधन इतना मज़बूत होना चाहिए कि वो बच्चा आपको अपने जीवन की हर बात बताए, आपसे कुछ न छिपाए और यह कहने से नहीं, बल्कि व्यवहार से होगा |

अच्छे श्रोता बनें

आप अपने बच्चों की सभी बातों को अच्छी तरह सुनें, पूरा सुनें और समझें | निष्कर्ष निकलने से पहले उनले भावनात्मक और विश्लेषणात्मक रूप से जाने और समझे | उससे कोई गलती हो जाए तो भी उसे डांटने या दोषी ठहराने से पहले उसे भी अपना पक्ष रखने दें |

साथ समय बिताएं

यह जानते हुए भी कि जीवन में सबसे प्यारा और अज़ीज़ हर माता-पिता के लिए उसका बच्चा होता है, कई बार माता-पिता अपने बच्चों की दैनिक ज़रूरतें तो पूरी कर देते हैं, अच्छे स्कूल में दाखिला दिलवा देते हैं लेकिन खुद समय कम दे पाते हैं | हर ज़रूरत की चीज़ देने के साथ आपका व्यक्तिगत साथ और समय भी बच्चे की मूलभूत आवश्यकता है |

न थोपें अपना लक्ष्य

सचिन तेंदुलकर, धीरुभाई अम्बानी, बिल गेट्स, अमिताभ बच्चन आदि कई उदहारण हैं, जो अपनी पढाई या परीक्षा मैं कभी बहुत ज्यादा अच्छा नहीं कर पाए लेकिन उनकी सफलता की परिभाषा करोड़ों लोगों के लिए प्रेरणा और पुरे राष्ट्र के लिए गौरव की बात है | बच्चे का लक्ष्य जीवन में क्या हो सकता है या किस काम में वो खुद सफल होना चाहता है या हो सकता है बतौर अभिभावक सबसे पहले आपको यह जानने का प्रयास करना है | अपनी तरफ से बनाया हुआ लक्ष्य उस पर न थोपें | उस पर किसी ऐसी परीक्षा में अच्छे अंक लाने का दबाव न बनाएँ जिसे वह देना ही नहीं चाहता |   

 

सफल व्यक्तित्व के लिए पढाएं

बच्चों को सिर्फ अंक लेन के लिए न पढाएं, बल्कि सम्पूर्ण सफल व्यक्तित्व बनाने के लिए पढाएं | केवल अंकों का और परीक्षा का दबाव बनाकर पढने को न कहें, बल्कि पढाई का वास्तविक उद्देश्य सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास है, यह जानकर पढने को प्रेरित करें | उनकी पढाई से जुड़े गुणों को जाने और समस्याओं को समझें |

प्रोत्साहित करें

जो बातें आपके बच्चे की विशेषताएं हैं यदि उसे अच्चा गाना आता है या किसी खेल में वो निपुण है या उसमे कोई और अच्छी विशेषता है तो उसकी अनदेखी ना करें, बल्कि उसे खूब प्रोत्साहित करें | कमजोरी या कमी को दोस्त की तरह समझाएं |

          

Related posts

Brainywood India Cross the Boundaries : MOU Signed between Brainywood India and Prones Asia Group, Chairman Mr. Manimaran Suppiah.

Brainywood India and Prones Asia Group, led by Dr. Vinod Sharma and Chairman Mr. Manimaran Suppiah respectively, have signed an MOU for collaborative innovation in education and technology. The partnership aims to integrate Brainywood's brain science techniques with Prones...

Read More

Leave a Comment

© 2021-22 Vinod Sharma. All Rights Reserved
Website managed and promoted by Accentuate e Services P Ltd.